तब वे बंगाल की खाड़ी को अपनी घरेलु झील समझते थे

Feb 22, 2009

आज प्रश्नोत्तरी की जगह पर एक बढ़िया तथा रोचक जानकारी लाया हूँ ! उम्मीद है पसंद आएगी !
================
एक दौर था, जब चोल राजा बंगाल की खाड़ी को अपनी घरेलु झील समझते थे ! आसपास के पुरे इलाके पर उनका ही कब्ज़ा था ! आज बंगाल की खाड़ी का इलाका कई देशों में बँटा हुआ है !
संस्कृत में गंगा के डेल्टा को बंगा या वंगा के नाम से जाना जाता है, वहीं से बंगाल बना ! वैसे बंगाल की खाड़ी हिंद महासागर का उत्तर-पूर्वी हिस्सा है ! आकार में तिकोना है ! भारत के अलावा बांग्लादेश, श्रीलंका, म्यामांर, और थाईलैंड की सीमाएं इसे छूती है ! गंगा, ब्रहमपुत्र, इरावती, महानदी, कृष्णा, और कावेरी नदी बंगाल की खाड़ी में ही गिरती है !
बंगाल की खाड़ी में सबसे ज्यादा चर्चित है, कुमारीकंदम और वैसाखेश्वारा मन्दिर ! लोगों का मानना ही की यह खाड़ी के बीचोंबीच समुद्र के अन्दर बना हुआ है ! आन्ध्र यूनिवर्सिटी के मैरिन आर्कियोलोजी सेंटर ने भी इसकी संभावना जताई है !
इसी बंगाल की खाड़ी में ईस्ट इंडिया कंपनी, फ्रेंच ईस्ट इंडिया कंपनी ने अपना डेरा जमाया था !
सन १९७१ में भारतीय जंगी जहाज आईएनएस राजपूत ने बंगाल की खाड़ी में ही पाकिस्तानी खतरनाक गाजी पनडुब्बी को डुबोया था !
=====================

2 comments:

Ratan Singh Shekhawat said...

आज भी बहुत बढ़िया जानकारी लाये हो |

Gagagn Sharma, Kuchh Alag sa said...

सुंदर जानकारी