Dec 3, 2008


बस एक ही उल्लू काफी था बर्बाद गुलिंस्ता करने को

यहाँ तो हर शाख पे उल्लू बैठा है, अंजाम गुलिंस्ता क्या होगा ???

सच्चाई छुप नही सकती, इन झूंठे उसूलों से

खुशबू आ नही सकती ,कागज के फूलों से

क्या हो गया है इन नेतायों को ? कौन सी बिमारी लग गई है ? इनके अन्दर क्या वो तो पता लग ही गया कोई एनएसजी कमांडो नेताजी आपकी आर्थिक मदद या झूंठी सांत्वना के लिए लड़ने नही गया था

0 comments: