एग्जाम एंग्जाइटी से कैसे बचे ....

Feb 20, 2009


एग्जाम एंग्जाइटी:

जैसे जैसे एग्जाम पास आते है, मन में घबराहट बढ़ती जाती है ! यह घबराहट अगर कम न हो तो एग्जाम प्रिपरेशन में बहुत बड़ी बाधा बन सकती है ! एग्जाम के संदर्भ में यह समझना जरूरी है कि एग्जाम कोई व्यक्तित्व या बौद्धिक क्षमता के बारे में निर्णय कराने वाली प्रोसेस नही होती है , यह आपकी तैयारी का प्रदर्शन है

वर्किंग विद एंग्जाइटी:

एंग्जाइटी कम करना बहुत जरूरी है वरना आपकी एकाग्रता, अंडरस्टेडिंग, पर असर पड़ेगा ! ज्यादातर एंग्जाइटी लचर प्रदर्शन से आती है ! इसलिए आप एग्जाम को मद्देनज़र रखते हुए अपनी काबिलियत को आँक लेते है , तो एंग्जाइटी दूर होने लगती है! कुछ दोस्तों को तो एंग्जाइटी के कारण उल्टी,सिरदर्द, कंपकपी जैसी प्रोब्लम्स भी हो जाती है ! इसके लिए बढ़िया काउंसलर कि मदद ले कर एंग्जाइटी दूर करनी चाहिए !

एग्जाम कि तैयारी करते समय ख़ुद पर विश्वास करने और शांत रहने कि बहुत आवश्यकता होती है ! लेकिन अगर आसपास आपसे भी ज्यादा चिंतित व्यक्ति है, तो आत्मविश्वास कम हो जाता है !इससे एंग्जाइटी और बढ़ जाती है ! इसलिए ऐसे दोस्तों/लोगों से बचना चाहिए !

कभी निगेटिव थिंकिंग मन में न लाये ! अपनी निराशा झलकाने वाले वाक्य ना बोले !================’जागरूक बनिए, चिंतित नही ===

आज बस इतना ही ……गुड लक…

॥=====================================

1 comments:

Udan Tashtari said...

परीक्षार्थियों के हितार्थ अच्छी जानकारी.